Fri. Nov 15th, 2019

नेक्स्ट फ्यूचर

भविष्य की ओर अग्रसर

आगरा:हल्दी की रस्म निभाकर गाए मंगल गीत,श्रीराम ने घनुष तोड़ सीता जी से रचाया स्वंयवर..

आगरा: भगवान शिव का धनुष जनकपुरी बने रामलीला मैदान में अपनी अलग ही छठा बिखेर रहा था | गुरुवार को रामलीला में राजा जनक द्वारा माता सीता के विवाह के लिए स्वंयवर आयोजित करने की लीला हुई |

इसमें कई देशों के राजा शामिल हुए, जिसमे प्रमुख रूप से वाणासुर, रावण, कालापानी, नरेश और अन्य राजा शामिल थे | राजा जनक ने स्वंयवर में कहा कि जो भी राजा इस धनुष पर चढ़ाएगा, उससे मेरी पुत्री जानकी का विवाह होगा |

समस्त राजाओं ने धनुष उठाने का प्रयास किया, लेकिन उसे उठाना तो दूर, उसे हिला भी नहीं पाया | राजा जनक काफी विचलित हो उठे | तभी गुरु विश्वामित्र श्रीराम और लक्ष्मण सहित वहां पधारे | गुरु विश्वामित्र को राजा जनक सर्वोच्च सिंहासन देते हैं | गुरु कि आज्ञा से भगवान राम धनुष उठाते हैं और जैसे ही धनुष कि डोरी चढ़ाते हैं, वह टूट जाता है | माँ जानकी प्रभु श्रीराम के गले में वरमाला डालती हैं | पूरी जनकपुरी में हर्षोल्लास छा जाता है |

इसके बाद भगवान परशुराम का आगमन होता है और सारे राजाओं का भय से कांपना शुरू हो जाता है | धनुष टूटा देख उन्हें क्रोध आता है लेकिन लक्ष्मण संवाद के बाद उन्हें जानकारी होती है और वह श्रीराम को नारायण रूप में देखते हैं और उनकी स्तुति करके तपस्या को चले जाते हैं |

इससे पहले मनकामेश्वर मंदिर से सभी राजाओं के साथ माँ जानकी, भगवान राम, लक्ष्मण की शोभायात्रा निकलती है | लीला का निर्देश नीरज चतुर्वेदी ने किया | इस दौरान महामंत्री श्रीभगवान शर्मा, रामप्रकाश अग्रवाल, जगदीश प्रसाद, दिनेश बंसल, अतुल बंसल, अजय शुक्ला, राहुल गौतम आदि मौजूद रहे |

16 सितम्बर से शुरू हो रहे जनकपुरी महोत्सव में वैदेही की शादी की रस्में निभाई जा रही है गुरुवार को राजा जनक बने ललित नारायण पाराशर के नगला अजीता स्थित आवास पर हल्दी रस्म निभाई गई |
माता सुनयना बानी मुन्नी देवी और उनकी पुत्रवधुओं ने महिलाओं के साथ तुलसी जी को हल्दी तथा महिलाओं ने एक दूसरे को हल्दी का टिका लगाकर हल्दी रस्म पूरी की | मंगल गान और नृत्य से माहौल विवाह जैसा हो गया |
इस दौरान उर्मिला पाराशर, गायत्री पाराशर, नंदरानी, अलका, कल्पना, कमलेश, प्राची, अचला, रिंकी, तान्या, श्रुति, रेनू, पारुल, राजकुमारी पाराशर, हदेश चौधरी, मृदुला अग्रवाल, उषा गर्ग, अनीता गौतम, रेखा तिवारी, डॉ. अलका बिंदल, प्रमिला दुबे आदि मौजूद रहीं |राजा जनक और रानी सुनयना का स्वागत: गुरुवार को राजा जनक बने ललित नारायण पराशर और रानी सुनयना का करकुंज पर स्वागत किया गया | इस अवसर पर राकेश शर्मा, महेश शर्मा, शैलू पंडित, राजकुमार शर्मा आदि मौजूद रहे |

श्रीराम बारात के लिए तैयार हो रहा जनकमहल: 17 सितम्बर को श्रीराम और माता जानकी के विवाह का साक्षी बनने केलिए जनक महल आकर लेता जारहा है | 15 सितम्बर को पूरी तरह अहमदाबाद के अक्षर धाम मंदिर का आकर ले लेगा | जनक महल के आगे और साइड में दोनों तरफ का बगीचा बन चूका है |

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.