Mon. Dec 9th, 2019

नेक्स्ट फ्यूचर

भविष्य की ओर अग्रसर

नगर निगम का घेराव करने पहुंचे भाजयुमो कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने जमकर भांजी लाठी

1 min read
कोलकाता, राजधानी कोलकाता में डेंगू नियंत्रण में विफलता समेत कई अन्य आरोप लगाकर कोलकाता नगर निगम का घेराव करने पहुंचे भारतीय जनता युवा मोर्चा (भजयुमो) के हजारों कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने जमकर लाठियां चटकाई है।
बुधवार अपराह्न प्रदेश भाजपा मुख्यालय से रैली की शक्ल में हजारों भाजयुमो कार्यकर्ता नगर निगम मुख्यालय की ओर बढ़ने की कोशिश कर रहे थे। उनका नेतृत्व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष, प्रदेश महासचिव राजू बनर्जी समेत अन्य शीर्ष नेता कर रहे थे। इधर पुलिस ने पहले से ही भाजपा कार्यकर्ताओं को रोकने के लिए सारी तैयारियां करके रखी थी।
नगर निगम से पहले पड़ने वाले चांदनी चौक के पास ही पुलिस ने त्रिस्तरीय स्टील बैरिकेडिंग कर दी थी। इसके अलावा नगर निगम के आसपास लगने वाली दुकानों को भी पहले से ही बंद करवा दिया गया था। जैसे ही भाजयुमो कार्यकर्ता चांदनी चौक पहुंचे, पुलिस ने वहां उन्हें बैरिकेडिंग के उस पार बलपूर्वक रोक दिया। भाजपा के कार्यकर्ताओं ने बैरिकेडिंग तोड़कर नगर निगम मुख्यालय तक पहुंचने की कोशिश शुरू कर दी जिससे भाजपा कार्यकर्ताओं में हाथापाई शुरु हो गई।
देखते ही देखते भाजपा कार्यकर्ता बैरिकेडिंग को पूरी तरह से तोड़ने की कोशिश में जुट गए थे। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने जमकर लाठियां चटकायी। आंसू गैस के गोले  और वाटर कैनन का भी इस्तेमाल किया गया।
बताया गया है कि इसमें पार्टी के राज्य महासचिव राजू बनर्जी समेत सैकड़ों लोग घायल हुए हैं जिन्हें इलाज के लिए कलकत्ता मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती किया गया है। राजू बनर्जी सहित 31 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।
खबर लिखे जाने तक पुलिस और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच टकराव जारी है। इधर भाजपा कार्यकर्ताओं को रोकने के लिए नगर निगम के सभी गेट पर ताले लगा दिए गए हैं। आसपास की सारी दुकानें बंद करा कर पूरे क्षेत्र को खाली कराया गया है। पुलिस ने नगर निगम और भाजपा मुख्यालय के बीच पड़ने वाले धर्मतल्ला, चांदनी, सेंट्रल एवेन्यू समेत अन्य क्षेत्रों को पहले ही खाली करा लिया था। आरोप है कि जानबूझकर भाजपा कार्यकर्ताओं पर आंसू गैस के गोले छोड़े गए जिसमें अधिक केमिकल थे। कई लोगों का दम घुट रहा है।
पुलिस के हमले में प्रदेश भाजपा के महासचिव राजू बनर्जी गंभीर रूप से घायल होकर जमीन पर गिर पड़े थे। कुल मिलाकर कहा जाए तो नगर निगम के आसपास पुलिस और भाजपा के युवा कार्यकर्ताओं के बीच टकराव की वजह से पूरा इलाका रणक्षेत्र में तब्दील हो गया है। यहां से गुजरने वाली सभी गाड़ियों को दूसरे रूट से मोड़ दिया गया है। चुकी धर्मतल्ला और चांदनी चौक का इलाका महानगर का दिल कहा जाता है। इसलिए इस तरह की परिस्थिति ने पूरे शहर को ठप कर दिया है। उल्लेखनीय है कि डेंगू रोकथाम के साथ-साथ कोलकाता में जल कर खत्म करने और म्यूटेशन आदि की सुविधाओं में बढ़ोतरी की मांग पर भाजपा ने नगर निगम घेराव किया है। दरअसल 2020 में नगर पालिका में चुनाव होने है। यह 2021 में होने वाले विधानसभा चुनाव का लिटमस टेस्ट होगा। इसीलिए भाजपा यहां अपना शक्ति प्रदर्शन करने से किसी भी तरह से कोर कसर बाकी रखना नहीं चाहती है। बुधवार को नगर निगम घेराव भी इसी कोशिश का एक हिस्सा है।
Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.