Sun. Oct 13th, 2019

नेक्स्ट फ्यूचर

भविष्य की ओर अग्रसर

मंत्री के बयान से खफा हुआ पटवारी संघ, दी हड़ताल की चेतावनी

1 min read
भोपाल,  प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी के बयान से राज्य के पटवारियों में आक्रोश देखने को मिल रहा है। पटवारी संघ ने अपनी नाराजगी जताते हुए मंत्री से माफी मांगने को कहा है, साथ ही अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की चेतावनी भी दे दी है। यह चेतावनी ऐसे समय दी गई है, जब प्रदेश में भारी बारिश से फसलों को भारी नुकसान हुआ है और सरकार पटवारियों के माध्यम से प्रदेशभर में क्षतिग्रस्त फसलों का सर्वे करा रही है।  इधर, मंत्री पटवारी ने अपने बयान को लेकर सफाई दी है।

संघ का कहना है कि मंत्री को तीन दिन में माफी मांगना होगा। वरना, प्रदेशभर के पटवारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। पटवारी संघ का कहना है कि मंत्री का आरोप सभी पटवारियों के मान-सम्मान, स्वाभिमान, अस्मिता पर कुठाराघात है। इससे पटवारियों को मानसिक आघात पहुंचा है। एक जिम्मेदार पद पर बैठे मंत्री द्वारा सार्वजनिक रूप से इस तरह के बयान देने के बाद पूरे प्रदेश के पटवारी स्वयं को अपमानित महसूस कर रहे हैं। संघ ने कहा है कि एक पटवारी ही है जो शासन की रीढ़ की हड्डी होता है। जो हर विभाग के कामों और आदेशों का पालन कर पूरे सप्ताह चौबीस घंटे करता है। वर्तमान समय में पीडि़तों की सहायता, फसल सर्वेक्षण, पीएम किसान योजना, बीपीएल, राशन कार्ड, अतिवृष्टि से प्रभावित जन-पशु-मकान या सभी प्रकार के नुकसान का आकलन करता है। मंत्री का बयान अपमानजनक है।
पटवारियों ने मंत्री को चेतावनी दी है कि वे सोमवार, 30 सितम्बर को प्रदेश के सभी जिला मुख्यालय पर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर मांग करेंगे कि मंत्री अपने बयान के लिए तीन दिन में माफी मांगें, वरना प्रदेशभर के पटवारी अनिश्चितकाल के लिए हड़ताल पर चले जाएंगे। पटवारी संघ की चेतावनी के बाद मंत्री जीतू पटवारी ने सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी सफाई दी है। उन्होंने रविवार को ट्वीट किया है कि ‘मैंने इंदौर के एक ब्लॉक के पटवारियों के लिए यह बात कही थी, पूरे प्रदेश के पटवारियों के लिए नहीं। उन्होंने लिखा है कि ‘इंदौर के एक ब्लॉक के पटवारियों की शिकायतें मिल रही थी, उसी के संदर्भ में मैंने बयान दिया था न कि पूरे प्रदेश के पटवारियों के बारे में। मेरा भाव किसी की भावना को ठेस पहुंचाना नहीं था। हमारे प्रदेश में 99 प्रतिशत कर्मचारी ईमानदारी से काम करते हैं। कुछ नहीं करते हैं, उससे विभाग पर सवाल खड़े होते है, जो ठीक बात नहीं है।
उल्लेखनीय है कि उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी अपने विधानसभा क्षेत्र के ग्राम रंगवासा में शनिवार को आयोजित ‘आपकी सरकार आपके द्वार’ कार्यक्रम में शामिल हुए थे। यहां उन्होंने अधिकारियों-कर्मचारियों पर निशाना साधते हुए कहा था कि प्रदेश में भ्रष्टाचार चरम पर है और आए दिन लोकायुक्त के छापों में सरकारी कर्मचारी रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों पकड़े जा रहे हैं। उन्होंने कार्यक्रम के मंच से कलेक्टर को संबोधित करते हुए कहा कि आपके 100 प्रतिशत पटवारी रिश्वत लेते हैं। हाथ जोड़ने के बाद अनुरोध करने पर भी ये (पटवारी) काम करने के लिए नहीं मानते हैं। रिश्वत लेना और देना दोनों अपराध है, कोई मांगे तो आप इसे मना करें और काम करवाएं। यदि आवेदन के बाद भी काम नहीं होता है, तो आप मुझे बताएं।
Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.